Monday, December 5, 2022
HomeWorld NewsPAK में नए आर्मी चीफ के नाम का ऐलान जल्द: PM के...

PAK में नए आर्मी चीफ के नाम का ऐलान जल्द: PM के पास समरी पहुंची; 26 को इमरान सबसे बड़ी रैली करेंगे


इस्लामाबाद31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पाकिस्तान के अगले आर्मी चीफ के नाम का ऐलान 26 नवंबर को हो सकता है। प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ के पास कुछ नामों की समरी पहुंच चुकी है। वो इनमें से एक नाम फाइनल करके इसे राष्ट्रपति आरिफ अल्वी के पास भेजेंगे। अगर इमरान खान समर्थक अल्वी ने कयासों के मुताबिक, कोई कानूनी पेंच नहीं फंसाया तो 26 को नाम तय हो जाएगा। 29 को नया आर्मी चीफ कमान संभाल लेगा।

इस बीच, सरकार और फौज के लिए मुश्किल बन चुके इमरान खान रावलपिंडी में ऐतिहासिक रैली करने जा रहे हैं। इस रैली को दो बातें खास बनाती हैं। पहली- रैली रावलपिंडी में होगी और यहीं आर्मी हेडक्वॉर्टर है। यानी फौज से टकराव की तैयारी है। दूसरी- फौज और सरकार से नए इलेक्शन जल्द कराने की डेट मांगी जाएगी।

इमरान खान के लॉन्ग मार्च की वजह से ही सऊदी क्राउन प्रिंस सलमान को पिछले हफ्ते पाकिस्तान दौरा रद्द करना पड़ा था।

इमरान खान के लॉन्ग मार्च की वजह से ही सऊदी क्राउन प्रिंस सलमान को पिछले हफ्ते पाकिस्तान दौरा रद्द करना पड़ा था।

बाजवा को एक और एक्सटेंशन नहीं
शाहबाज शरीफ तो चाहते थे कि वर्तमान सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा को एक और एक्सटेंशन दी जाए, लेकिन खुद बाजवा इसके लिए तैयार नहीं थे। ऐसे में जाहिर है कि मुल्क की सबसे ताकतवर पोस्ट पर बाजवा की जगह कोई नया जनरल काबिज होगा।

बुधवार को PM ऑफिस से जारी बयान में कहा गया- समरी हमारे पास पहुंच चुकी है। प्रधानमंत्री एक या दो दिन में नाम तय करके उसे राष्ट्रपति के पास भेजेंगे। 61 साल के बाजवा के बारे में पिछले हफ्ते बड़ा खुलासा हुआ था। ‘फैक्ट फोकस’ नाम की एक वेबसाइट पर दावा किया था कि बाजवा ने 6 साल के टैन्योर के दौरान अरबों रुपए की प्रॉपर्टी बनाई। इसके रिकॉर्ड्स भी सामने आए। अब सरकार जानकारी लीक होने के मामले की जांच करा रही है।

समरी में कितने नाम
वजीर-ए-आजम यानी प्रधानमंत्री के पास डिफेंस मिनिस्ट्री ने 6 नाम भेजे हैं। इसे ही समरी कहा जाता है। इनमें से ही एक नाम चुना जाएगा। इमरान अपने करीबी दोस्त और पूर्व ISI चीफ जनरल फैज हमीद को आर्मी चीफ बनवाना चाहते थे और इसके लिए बाजवा और शरीफ दोनों ही तैयार नहीं बताए जाते। इमरान दबाव बना रहे थे कि नए आर्मी चीफ की तैनाती के मामले में उनकी भी सलाह ली जाए, लेकिन संविधान में यह अधिकार सिर्फ प्रधानमंत्री को दिया गया है। खान इससे बौखलाए हुए हैं।

टकराव के लिए तैयार खान

  • इमरान ने इस महीने की शुरुआत में लाहौर से इस्लामाबाद लॉन्ग मार्च शुरू किया था। वजीराबाज में उन पर कथित तौर पर हमला हुआ। इसके बाद से वो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए भाषण दे रहे हैं। उनकी पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (PTI) के बाकी नेता मार्च बढ़ा रहे हैं।
  • कहा जा रहा है कि नए आर्मी चीफ पर दबाव बनाने के लिए ही इमरान ने 26 मार्च को फौज के ही शहर में रैली करने का ऐलान किया है। इसके अलावा वो सरकार को भी अल्टीमेटम देने जा रहे हैं कि वो जल्द से जल्द जनरल इलेक्शन की तारीखों का ऐलान करे। खान पहले ही कह चुके हैं कि अगर सरकार और उसके पैरोकार (फौज) चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं करते तो वो मुल्क जाम कर देंगे।
  • सरकार और फौज इसलिए परेशान है क्योंकि सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान (MBS) को पाकिस्तान के खराब हालात की वजह से पिछले हफ्ते अपना दौरा रद्द करना पड़ा था। 2014 में इमरान की वजह से ही चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग को पाकिस्तान विजिट कैंसल करनी पड़ी थी।
  • खान की पार्टी ने बुधवार को दावा किया कि 26 नवंबर को होने वाली रैली ऐसी होगी, जैसी पाकिस्तान के इतिहास में कभी नहीं हुई होगी। इमरान के लॉन्ग मार्च में अब तक एक महिला जर्नलिस्ट समेत 3 लोग मारे जा चुके हैं।

फौज और सरकार भी तैयार
इमरान के लॉन्ग मार्च की वजह से सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान का दौरा रद्द हुआ। इसके अलावा पंजाब और खैबर पख्तूनख्वा में केंद्र सरकार कुछ नहीं कर पा रही है। इसकी वजह से सिर्फ सरकार ही नहीं, बल्कि फौज भी परेशान है। इमरान के बयानों से फौज में दरार पड़ने की भी खबरें हैं। माना जा रहा है कि फौज और सरकार इमरान के खिलाफ सख्त रुख अपनाने का फैसला कर चुके हैं। इसके संकेत डिफेंस मिनिस्टर ख्वाजा आसिफ के बयान से मिलते हैं।

आसिफ ने मंगलवार को कहा- सबसे जरूरी काम आर्मी चीफ का अपॉइंटमेंट है। यह प्रॉसेस 2 या 3 दिन में पूरी हो जाएगी। इसके बाद इमरान से निपटा जाएगा।

MBS के दौरे से क्या थी उम्मीद

  • पाकिस्तान के फॉरेन रिजर्व इस वक्त 7 से 8 अरब डॉलर के बीच हैं। इनमें में भी करीब 2.5 अरब डॉलर सऊदी की तरफ गारंटी मनी के तौर पर डिपॉजिट हैं। पाकिस्तान को सऊदी तेल भी उधार पर दे रहा है। 1.5 अरब डॉलर UAE ने दिए हैं। ये भी गारंटी मनी है। गारंटी मनी का यह मतलब है कि यह पैसा पाकिस्तान सरकार के खजाने में तो रहेगा, लेकिन वो इसे इस्तेमाल या खर्च नहीं कर सकेगा।
  • शाहबाज शरीफ सरकार में फाइनेंस मिनिस्टर इशहाक डार ने पिछले दिनों कहा था- प्रिंस सलमान पाकिस्तान को 4.1 अरब डॉलर का कर्ज देंगे। इसके अलावा पेट्रोलियम सेक्टर में भी सऊदी हमारी मदद करने जा रहा है।
  • अब सलमान का दौरा रद्द होने से पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ गई हैं। इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड यानी IMF से भी पाकिस्तान को तीन महीने तक कोई किश्त नहीं मिलने वाली। शरीफ पिछले महीने चीन भी गए थे, लेकिन वहां से भी नया कर्ज नहीं मिला।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments