Monday, November 28, 2022
HomeSports7th Pay Commission: Govt to decide on fitment factor this month? Salary...

7th Pay Commission: Govt to decide on fitment factor this month? Salary likely to increase by Rs 49,420, says reports


नई दिल्ली: 7 वां वेतन आयोग – केंद्र सरकार उस फिटमेंट फैक्टर को संशोधित करने पर अपना निर्णय ले सकती है जिसकी कर्मचारी संघ मांग कर रहा है, मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है। केंद्र सरकार के कर्मचारी संघों की लंबे समय से मांग है कि फिटमेंट फैक्टर को बढ़ाया जाए। मांग को लेकर दबाव बनाने वाले केंद्र सरकार के कर्मचारियों का अंतहीन इंतजार फिटमेंट फैक्टर को 2.57 गुना से बढ़ाकर 3.68 गुना कर देता है।

7वां वेतन आयोग: यहां है फिटमेंट फैक्टर में संभावित बढ़ोतरी के बाद की गणना

मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, सरकार अगले साल के केंद्रीय बजट के बाद फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोतरी का फैसला ले सकती है। अगर सरकार फिटमेंट फैक्टर को 3 गुना बढ़ा देती है, तो भत्तों को छोड़कर कर्मचारियों का वेतन 18,000 X 2.57 = 46,260 रुपये होगा। वहीं अगर कर्मचारियों की मांगें मान ली जाती हैं तो वेतन 26000 X 3.68 = 95,680 रुपये होगा। अगर सरकार 3 गुना फिटमेंट फैक्टर मानती है तो सैलरी 21000 X 3 = 63,000 रुपये होगी. (यह भी पढ़ें: सालाना 36,000 रुपये पेंशन पाने के लिए 200 रुपये प्रति माह निवेश करें — गणना की जांच करें)

7वां वेतन आयोग : सरकार ने डीए 4 प्रतिशत बढ़ाकर 38 प्रतिशत किया

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 28 सितंबर 2022 को अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के 12 मासिक औसत में प्रतिशत वृद्धि के आधार पर 01.07.2022 से देय केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को 4 प्रतिशत की दर से महंगाई भत्ता और महंगाई राहत की अतिरिक्त किस्त जारी करने को मंजूरी दी थी। जून, 2022 को समाप्त होने वाली अवधि के लिए।

केंद्र सरकार के कर्मचारी और पेंशनभोगी 01.07.2022 से क्रमश: अधिक राशि के महंगाई भत्ते और महंगाई राहत के हकदार हो जाएंगे।

केंद्र सरकार के कर्मचारियों को महंगाई भत्ते की इस वृद्धि के कारण अतिरिक्त वित्तीय प्रभाव 6,591.36 करोड़ रुपये प्रति वर्ष होने का अनुमान है; और वित्तीय वर्ष 2022-23 में 4,394.24 करोड़ रुपये (यानी जुलाई, 2022 से फरवरी, 2023 तक 8 महीने की अवधि के लिए)।

पेंशनभोगियों को महंगाई राहत में इस वृद्धि के कारण प्रति वर्ष 6,261.20 करोड़ रुपये का अतिरिक्त वित्तीय प्रभाव पड़ने का अनुमान है; और वित्तीय वर्ष 2022-23 में 4,174.12 करोड़ रुपये (यानी जुलाई, 2022 से फरवरी, 2023 तक 8 महीने की अवधि के लिए)।

महंगाई भत्ता और महंगाई राहत दोनों के कारण राजकोष पर संयुक्त रूप से प्रति वर्ष 12,852.56 करोड़ रुपये का प्रावधान होगा; और वित्तीय वर्ष 2022-23 में 8,568.36 करोड़ रुपये (यानी जुलाई, 2022 से फरवरी, 2023 तक 8 महीने की अवधि के लिए)।





Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments