Thursday, December 1, 2022
HomeWorld Newsबच्चों में जेंडर बदलने की चाहत: 11 साल तक के 5% बच्चों...

बच्चों में जेंडर बदलने की चाहत: 11 साल तक के 5% बच्चों की इच्छा, ये वक्त से पहले ही किशोर हो रहे


6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अमेरिका में अधिकांश पेरेंट्स अपने बच्चों को जेंडर बेस्ड एजुकेशन नहीं देना चाहते हैं। विगत दिनों हुई प्यू रिसर्च में यह बात सामने आई है। इसके चलते बच्चों की जेंडर पहचान और उनके शारीरिक विकास के बीच संबंध तलाशने के लिए आरहुस यूनिवर्सिटी ने एक सर्वे किया। इसमें कई चौंकाने वाले तथ्यों का खुलासा किया गया है।

बच्चे जल्दी किशोर होना चाहते हैं
स्टडी में सामने आया कि बच्चों में जल्दी किशोरावस्था तक पहुंचने की इच्छा पनप रही हैं। इतना ही नहीं, 11 साल की उम्र के बच्चों में जेंडर बदलने की चाहत होने लगी है। रिसर्चर्स ने सर्वे में पाया कि 5% बच्चों ने आंशिक या पूरी तरह से जेंडर बदलने की इच्छा जताई है। पहली बार इस तरह का सर्वे हुआ है।

इसके लिए सभी बच्चों से हर 6 महीने में उनके शरीर में होने वाले बदलावों के बारे में जानकारी जुटाई। जिन बच्चों ने जेंडर बदलने की चाहत जताई थी, वे दूसरे बच्चों की तुलना में दो महीने पहले ही किशोर हो चुके थे। इसके लिए ‘बेटर हेल्थ फॉर जनरेशन्स’ रिसर्च प्रोजेक्ट के डेटा का इस्तेमाल किया गया।

1996 से शुरू हुई थी रिसर्च
1996 में शुरु हुए इस प्रोजेक्ट में डेनमार्क की एक लाख महिलाओं को शामिल किया गया था। उनकी प्रेग्नेंसी, बच्चा पैदा होने से लेकर बच्चों के बड़े होने तक रिसर्च को जारी रखा गया। बच्चों के 11 साल का होने पर उन्हें जेंडर और किशोरावस्था पर हुई स्टडी में शामिल किया गया। हालांकि नतीजे तक पहुंचने से पहले और स्टडी की जरुरत है, ताकि सटीक कारणों का पता लगाया जा सके।

बाल रोग विशेषज्ञों के लिए महत्वपूर्ण है यह रिपोर्ट
इस रिपोर्ट के परिणाम बाल रोग विशेषज्ञों के लिए जरुरी हैं, जो किशोरावस्था में प्रवेश कर रहे बच्चों के साथ डील करते हैं। डॉक्टरों के सामने ऐसे कई मामले आ सकते हैं, जिनमें बच्चे जल्दी किशोर होने पर असहज महसूस करें। इसलिए इस बारे में सही जानकारी होनी जरुरी है।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments