Monday, November 28, 2022
HomeBusinessकोरोना पाबंदियों के चलते चीन में आईफोन प्लांट में हिंसा: गार्ड्स-वर्कर्स भिड़े;...

कोरोना पाबंदियों के चलते चीन में आईफोन प्लांट में हिंसा: गार्ड्स-वर्कर्स भिड़े; कर्मचारी खाने, दवा और सैलरी को लेकर नाराज


शंघाई13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

चीन के झेंग्झौ स्थित आईफोन सिटी में 2 लाख वर्कर्स हैं। कड़ी पाबंदियों के चलते कई प्लांट से भाग भी गए हैं। – फोटो सोशल मीडिया

चीन के आईफोन प्लांट में कड़ी कोरोना पाबंदियों को लेकर हिंसा शुरू हो गई है। झेंग्झौ में आईफोन बनाने वाले फॉक्सकॉन टेक्नोलॉजी के प्लांट में सैकड़ों कर्मचारी सुरक्षाकर्मियों से भिड़ गए। सोशल मीडिया पर इस हिंसा के कई वीडियो और फोटो भी सामने आ रहे हैं।

ब्लूमबर्ग ने इन फोटोज और वीडियोज के आधार पर एक रिपोर्ट भी दी है। इसमें कहा गया कि कोरोना के चलते प्लांट में एक महीने से कड़ी पाबंदियां हैं। कर्मचारी खाने, दवा और सैलरी को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं।

गार्ड्स ने वर्कर को लात से पीटा
ऐसे ही एक वीडियो में दिख रहा है कि कुछ वर्कर्स सफेद रंग के कपड़े पहने गार्ड से भिड़ गए। एक अन्य वीडियो में गार्ड जमीन पर लेटे एक वर्कर को लातों से पीटते नजर आ रहे हैं। इसी दौरान लड़ो-लड़ो के नारे भी सुनाई दे रहे हैं। एक अन्य वीडियो में भीड़ बैरिकेड्स को पार कर आगे बढ़ गई और पुलिस कार को घेरकर जोर-जोर से चिल्लाते हुए वाहन को हिलाना शुरू कर दिया।

इस वीडियो को ट्विटर पर @violazhouyi नाम के वैरिफाइड हैंडल से शेयर किया गया है। वीडियो शेयर करते हुए चीन की टेक रिपोर्टर वियोला झोउ ने लिखा, फॉक्सकॉन के एक कर्मचारी ने झेंग्झौ फैक्ट्री में चल रहे विरोध से लाइव फुटेज शेयर किया। उन्होंने कहा कि पेमेंट की मांग को लेकर मजदूर दंगा रोधी पुलिस से भिड़ गए।

इस वीडियो को ट्विटर पर @violazhouyi नाम के वैरिफाइड हैंडल से शेयर किया गया है। वीडियो शेयर करते हुए चीन की टेक रिपोर्टर वियोला झोउ ने लिखा, फॉक्सकॉन के एक कर्मचारी ने झेंग्झौ फैक्ट्री में चल रहे विरोध से लाइव फुटेज शेयर किया। उन्होंने कहा कि पेमेंट की मांग को लेकर मजदूर दंगा रोधी पुलिस से भिड़ गए।

वर्कर्स ने प्लांट मैनेजर से कहा- हमें मौत के मुंह में भेज रहे
एक अन्य वीडियो में नाराज वर्कर्स ने कॉन्फ्रेंस रूम में मैनेजर को घेर लिया। वो अपने कोविड टेस्ट पर सवाल उठा रहे थे। एक वर्कर ने कहा, ‘मैं इस जगह को लेकर डरा हुआ हूं, हम सभी अब कोविड पॉजिटिव हो सकते हैं।’ एक अन्य व्यक्ति ने कहा, ‘आप हमें मौत के मुंह में भेज रहे हैं।’ चश्मदीदों के मुताबिक, पेमेंट न होने और संक्रमण फैलने की आशंकाओं को लेकर ये विरोध शुरू हुआ है। कई वर्कर इसमें घायल हो गए हैं।

2 लाख से ज्यादा वर्क फोर्स, ज्यादातर आइसोलेशन में हैं
इस आईफोन सिटी में 2 लाख से ज्यादा की वर्कफोर्स है। इनमें से ज्यादातर को आइसोलेशन में रहने के लिए मजबूर किया जा रहा है। इतना ही नहीं इन्हें लंबे समय से बेहद साधारण खाना मिल रहा है और दवाओं के लिए भी दूसरों पर निर्भर है। ऐसे में कई लोग पिछले महीने प्लांट से भाग गए। फॉक्सकॉन और स्थानीय सरकार ने अब नए कर्मचारियों को बुलाने के लिए ज्यादा मजदूरी और अच्छी वर्क कंडीशन का वादा किया है।

एपल के लिए वॉर्निंग
चीन में फॉक्सकॉन की स्थिति एपल के लिए वॉर्निंग की तरह है। ये एपल को याद दिला रहा है वो चीन पर निर्भर नहीं रह सकता। चीन की इस फैक्ट्री में हर मिनट लगभग 350 आईफोन का उत्पादन किया जा सकता है। झेंग्झौ में फॉक्सकॉन की फैसिलिटी 2.2 वर्ग मील में फैली हुई है और इसमें 3,50,000 कर्मचारी काम कर सकते हैं। झेंग्झौ में जहां फॉक्सकॉन का प्लांट है उसे आईफोन सिटी भी कहा जाता है।

आईफोन असेंबलिंग में पॉलिशिंग, सोल्डरिंग, ड्रिलिंग और फिटिंग स्क्रू सहित लगभग 400 स्टेप्स लगती हैं

आईफोन असेंबलिंग में पॉलिशिंग, सोल्डरिंग, ड्रिलिंग और फिटिंग स्क्रू सहित लगभग 400 स्टेप्स लगती हैं

झेंग्झौ मैन्युफैक्चरिंग साइट पर 94 प्रोडक्शन लाइन्स हैं। आईफोन असेंबलिंग में पॉलिशिंग, सोल्डरिंग, ड्रिलिंग और फिटिंग स्क्रू सहित लगभग 400 स्टेप्स लगती हैं। यह फैसिलिटी एक दिन में 500,000 आईफोन्स का उत्पादन कर सकती है।

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments