Friday, December 2, 2022
HomeBusinessआने वाले दिनों में महंगा हो सकता है डीजल: इसकी कीमत बढ़ने...

आने वाले दिनों में महंगा हो सकता है डीजल: इसकी कीमत बढ़ने से बढ़ सकती है महंगाई, सप्लाई घटने से हो रही डीजल की कमी


  • हिंदी समाचार
  • व्यवसाय
  • डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी | क्यों महंगा हो सकता है डीजल? सब कुछ जो आपके लिए जानना ज़रूरी है

न्यूयॉर्क13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

कच्चा तेल समेत कई जरूरी कमोडिटी के दाम घटने से जो राहत मिलती नजर आ रही है, वह गायब हो सकती है। आम जीवन और पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था के लिए सबसे महत्वपूर्ण ईंधन डीजल की किल्लत बढ़ने वाली है। अगले कुछ महीनों में दुनिया का हर हिस्सा इससे प्रभावित होगा।

अमेरिका में डीजल का स्टॉक करीब 40 साल के निचले स्तर पर
डीजल की किल्लत के संकेत अभी से मिलने लगे हैं। अमेरिका में डीजल का स्टॉक करीब 40 साल के निचले स्तर पर आ गया है। यूरोप में भी करीब-करीब यही हाल है। मार्च तक हालात और खराब होंगे, जब समुद्र के रास्ते रूस से डीजल आयात पर प्रतिबंध लागू होंगे। स्थिति अभी से खराब होने लगी है।

डीजल का वैश्विक (एक्सपोर्ट) निर्यात घटने लगा है, जिसका सबसे ज्यादा असर पाकिस्तान जैसे गरीब देशों पर होगा। दरअसल डीजल से न सिर्फ बसें, ट्रक, जहाज और ट्रेनें चलती हैं, बल्कि कंस्ट्रक्शन व खेती-बाड़ी में काम आने वाली मशीनें और फैक्टरियां भी चलती हैं। यही वजह है कि डीजल की किल्लत से इसकी कीमतों में बढ़ोतरी गहरा असर दिखाएगी।

अमेरिका को 8.17 लाख करोड़ का झटका
राइस यूनिवर्सिटी के बेकर इंस्टिट्यूट ऑफ पब्लिक पॉलिसी के एनर्जी फेलो मार्क फिनली के मुताबिक, डीजल के दाम बढ़ने से अकेले अमेरिका को करीब 100 अरब डॉलर (8.17 लाख करोड़ रुपए) का झटका लगेगा। फिनली ने कहा, ‘हमारे देश में हर चीज एक जगह से दूसरी जगह डीजल के दम पर पहुंचती है। पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम भी एक हद तक डीजल पर निर्भर है। ऐसे में इसकी किल्लत गंभीर असर दिखाएगी।’

अमेरिका में 50% महंगा
अमेरिका में डीजल तेजी से महंगा हो रहा है। बेंचमार्क न्यूयॉर्क हार्बर के दाम इस साल अब तक करीब 50% बढ़ गए हैं। नवंबर की शुरुआत में यह 4.90 डॉलर प्रति गैलन (105.73 रुपए प्रति लीटर) रहा। नई दिल्ली में डीजल 89.62 रुपए प्रति लीटर है।

भारतीय बाजार पर सीधा असर
ऊर्जा विशेषज्ञ नरेंद्र तनेजा के मुताबिक, अंतरराष्ट्रीय बाजार में डीजल के दाम बढ़ने का सीधा असर भारतीय बाजार में इसकी कीमतों पर हो सकता है। उन्होंने कहा कि देश में रिफाइनिंग कैपिसिटी अच्छी है, लिहाजा सप्लाई की दिक्कत नहीं होगी। लेकिन देश में जिन पैमानों पर डीजल के दाम तय किए जाते हैं, उनमें सबसे ऊपर अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत है। ऐसे में दुनियाभर में डीजल महंगा होने पर भारत में भी दाम बढ़ सकते हैं।

डीजल की सबसे ज्यादा खपत ट्रांसपोर्ट और एग्रीकल्चर सेक्टर में
भारत में डीजल की सबसे ज्यादा खपत ट्रांसपोर्ट और एग्रीकल्चर सेक्टर में होती है। दाम बढ़ने पर यही दोनों सेक्टर सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। डीजल के दाम बढ़ने से खेती से लेकर उसे मंडी तक लाना महंगा हो गया है। इससे आम आदमी और किसान दोनों का बजट बिगड़ सकता है।

पेट्रोल-डीजल के आज के दाम
देश में तेल के दाम लगभग पिछले 5 महीने से ज्यादा समय स्थिर हैं। हालांकि जुलाई में महाराष्ट्र में पेट्रोल जरूर पांच रुपए और डीजल तीन रुपए प्रति लीटर सस्ता हुआ था, लेकिन बाकी राज्यों में दाम जस के तस बने हुए हैं।

ब्लूमबर्ग से विशेष अनुबंध के तहत सिर्फ भास्कर में

खबरें और भी हैं…



Source link

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments